Pitru Paksha 2021: क्‍या आपकी जिंदगी में भी हो रही हैं ऐसी घटनाएं? जान लें पितृ दोष के लक्षण और उपाय

यदि कुंडली में पितृ दोष (Pitru Dosh) हो तो तमाम कोशिशों और अच्‍छी किस्‍मत के बाद भी सफलता, खुशियां नहीं मिलती है. पितृ पक्ष (Pitru Paksha) के दौरान कुछ उपाय (Remedies) करने से पितृ दोष में बड़ी राहत मिल सकती है.

धर्म और ज्‍योतिष में पितृ दोष (Pitru Dosh) पर विस्‍तार से बताया गया है क्‍योंकि पितृ दोष के कारण जिंदगी ढेरों समस्‍याओं से घिर जाती है. जैसे- बनते काम बिगड़ जाते हैं, तरक्‍की (Progress) रुक जाती है, घर में हमेशा झगड़े होते रहते हैं. इसीलिए पितृ दोष का जल्‍द से जल्‍द निवारण करने की सलाह दी जाती है. पितृ दोष से निजात पाने के लिए सबसे अच्‍छा समय पितृ पक्ष (Pitru Paksha) का होता है.

आइए जानते हैं कुंडली में पितृ दोष होने पर जिंदगी में उसके क्‍या लक्षण (Symptoms) दिखाई देते हैं और उन्‍हें दूर करने के क्‍या उपाय (Remedies) हैं. बता दें कि इस साल 6 अक्‍टूबर तक इन उपायों को करने के लिए अच्‍छा समय है.

पितृ दोष के लक्षण :

– बनते काम रुक जाना

– कड़ी मेहनत के बाद भी तरक्‍की न होना

– हमेशा मन अशांत रहना

– घर में बेवजह झगड़े होना

– घर में उदासी या नकारात्‍मकता का माहौल रहना

– बार-बार गैर-जरूरी कामों में पैसे खर्च होना

– बिना किसी कारण के बच्‍चों के विवाह या करियर में मुश्किलें आना

– वंश वृद्धि रुक जाना

पितृ दोष को दूर करने के उपाय :

पितृ दोष (Pitru Dosh) के असर को कम करने के लिए या उसे दूर करने के लिए पितृ पक्ष के दौरान कुछ उपाय किए जा सकते हैं. इनसे जिंदगी में आ रही मुश्किलें कम होंगी और अच्‍छे फल मिलने लगेंगे.

यह भी पढ़े :  Astrology: जॉब-बिजनेस में बहुत सफल होते हैं ये 5 राशि वाले लोग, जिंदगी में पाते हैं ऊंचा मुकाम

– पितृ पक्ष के दौरान रोजाना दिन में पीपल और बरगद के पेड़ पर जल, फूल, अक्षत, काले तिल चढ़ाकर पूजा करें. साथ ही पितरों से अपनी गलतियों की क्षमा मांगें.

– पितृ पक्ष में अपने परिवार के सभी सदस्‍यों से

कुछ सिक्‍के ले लें और मंदिर में दान कर दें.

– रोजाना कुत्ता, गाय, कौवा, चिड़ियों और चीटियों को रोटी डालें.

– जिस दिन श्राद्ध हो उस दिन पितरों को पंचबली भोग लगाएं. पंचबली भोग से मतलब है कि पितरों के लिए बनाए गए उनके प्रिय भोजन को देव, गाय, कौवा, कुत्ता और चींटी के लिए भोग के रूप में रखें. कहते हैं कि पितृ कौवे के रूप में आते हैं. पितृ पक्ष में कौवे को भोजन कराने से पितृ दोष दूर होता है.

– श्राद्ध के दिन ब्राह्मणों और जरूरतमंदों को भोजन कराएं. उन्‍हें दान दें.

– पितृ पक्ष के दौरान रोजाना सुबह-शाम घर में कपूर जलाएं, साथ ही गुड़ और घी की धूप दें. इससे भी पितृ दोष से राहत मिलती है.