Durga Saptashati Paath: नवरात्रि में पुण्य हासिल करने के लिए इस तरह करें सप्तशती का पाठ, देवी की बरसेगी कृपा

नवरात्रि (Navratri 2021) में दुर्गा सप्तशती (Durga Saptashati) का पाठ करने के कुछ नियम (Rules for Durga Saptashati Paath) हैं. जिनका हम सबको पालन करना चाहिए.

नवरात्रि (Navratri 2021) में दुर्गा सप्तशती (Durga Saptashati) का पाठ करना बहुत शुभ माना जाता है. ऐसा करने से भक्तों को अन्न, धन और यश की प्राप्ति होती है. इसका पाठ करने के कुछ नियम (Rules for Durga Saptashati Paath) हैं, जिनका हम सबको पालन करना चाहिए. ऐसा न करने पर स पाठ का शुभ लाभ हासिल नहीं होता.

 

दुर्गा पाठ से पहले करें ये काम

दुर्गा सप्तशती का पाठ (Durga Saptashati Paath) करने से पहले निर्वाण मंत्र, कवच, कीलक और अर्गला स्रोत का पाठ करें. इसके बाद ही पाठ शुरू करें. ऐसा करने से भक्तों पर मां दुर्गा की विशेष कृपा बरसती है.

दुर्गा सप्तशती का पाठ (Durga Saptashati Paath) तीन तरीके से किया जाता है. इसमें सबसे पहले तेज आवाज में बोलकर, फिर मंद स्वर में और अंत में मन में पाठ किया जाता है. पाठ समझकर और शब्दों का मतलब जानते हुए करना चाहिए. बिना अर्थ समझे मंत्रों का पाठ करने से कोई लाभ नहीं होता.

किसी चौकी पर रखें दुर्गा पाठ

नवरात्रि में दुर्गा सप्तशती का पाठ (Durga Saptashati Paath) करते समय उसे हाथ में लेकर पढ़ने के बजाय किसी चौकी या स्टैंड पर रखकर पाठ करना चाहिए. इस प्रकार से पाठ करने से विशेष पुण्य की प्राप्ति होती है.

नवरात्रि में दुर्गा सप्तशती का पाठ करते समय न तो बहुत तेज और न बहुत धीमे पाठ करना चाहिए. इसके बजाय मध्यम और स्पष्ट स्वर में पाठ किया जाना चाहिए. पाठ करते समय उसका सार भी समझना चाहिए.

यह भी पढ़े :  What is Mahalaya क्या है महालया? इसे दुर्गा पूजा से पहले क्यों मनाया जाता है?

एक बार में एक चरित्र का करें पाठ

पाठ के किसी अध्याय की समाप्ति होने पर वध, समाप्ति और इति जैसे शब्दों का इस्तेमाल नहीं किया जाना चाहिए. वध शब्द के उच्चारण से कुल वृद्धि में बाधा आती है. वहीं इति शब्द के प्रयोग से धन-धान्य कम हो जाता है. समाप्त शब्द का उच्चारण करने से बीमारियों को न्योता मिलता है.

दुर्गा सप्तशती का पाठ (Durga Saptashati Paath) करने के दौरान बीच में नहीं रुके. अगर एक बार में पूरे 13 अध्याय नहीं पढ़ पा रहे हैं तो एक बार में केवल एक चरित्र का पाठ करें. दुर्गा सप्तशती में तीन चरित्र यानी खंड प्रथम, मध्यम और उत्तर चरित्र हैं. आप एक बार में एक चरित्र का पाठ कर सकते हैं.