Aaj Ka Panchang : 03 अप्रैल 2022: आज करें मां ब्रह्मचारिणी की पूजा, जानें शुभ-अशुभ समय एवं राहुकाल

आज का पंचांग (Aaj Ka Panchang): आज 03 अप्रैल दिन रविवार है. आज चैत्र माह (Chaitra Month) के शुक्ल पक्ष की द्वितीया तिथि है. आज चैत्र नवरात्रि का दूसरा दिन है. आज मां दुर्गा के दूसरे स्वरुप मां ब्रह्मचारिणी (Maa Brahmacharini) की पूजा विधि विधान से करते हैं. इस देवी की पूजा करने से व्यक्ति को अपने कार्यों में सफलता प्राप्त होती है. इस देवी की आराधना से वैराग्य भी प्राप्त होता है. मां ब्रह्मचारिणी भगवान शिव को पति के रुप में पाने के लिए कठोर तप करती रहीं, ये संयम, त्याग और शक्ति का प्रतीक हैं. मां ब्रह्मचारिणी नवदूर्गा में दूसरी दुर्गा यानी मां दुर्गा का दूसरा स्वरूप हैं. जो लोग नौ दिन नवरात्रि का व्रत हैं, उनको प्रत्येक दिन मां दुर्गा की आरती सुबह और शाम में करनी चाहिए. साथ ही आप यदि चैत्र नवरात्रि में दुर्गा सप्तशती का पाठ करते हैं और उसके मंत्रों का जाप करते हैं, तो आपको कल्याण होगा.

आज रविवार के दिन प्रात: स्नान के बाद सबसे पहले सूर्य देव की पूजा करें. सूर्य देव प्रकाश के स्रोत एवं ग्रहों के राजा हैं. उनकी कृपा से व्यक्ति के रोग एवं दोष दूर होते हैं. उनको जल में लाल चंदन, शक्कर, लाल फूल मिलाकर अर्पित करें. वे आप पर प्रसन्न रहेंगे. उनके आशीर्वाद से धन धान्य की कमी नहीं होगी. इस दिन आपको गरीबों को गेहूं, तांबे के बर्तन, गुड़, लाल वस्त्र आदि का दान करना चाहिए. ऐसा करने से कुंडली में सूर्य की स्थिति मजबूत होगी. आइए पंचांग से जानें आज का शुभ और अशुभ मुहूर्त और जानें कैसी रहेगी आज ग्रहों की चाल.

यह भी पढ़े :  Magh Purnima 2022 : आज इन 7 उपायों से दूर करें चंद्र दोष को माघ पूर्णिमा पर बढ़ेगा सुख-समृद्धि.

03 अप्रैल 2022 का पंचांग

आज की तिथि – चैत्र शुक्ल द्वितीया

आज का करण – कौलव

आज का नक्षत्र – अश्विनी

आज का योग – वैद्रुति

आज का पक्ष – शुक्ल

आज का वार – रविवार

सूर्योदय-सूर्यास्त और चंद्रोदय-चंद्रास्त का समय

सूर्योदय – 06:30:00 AM

सूर्यास्त – 06:55:00 PM

चन्द्रोदय – 07:21:59

चन्द्रास्त – 20:42:59

चन्द्र राशि– मेष

हिन्दू मास एवं वर्ष

शक सम्वत – 1944 शुभकृत

विक्रम सम्वत – 2079

काली सम्वत – 5123

दिन काल – 12:30:19

मास अमांत – चैत्र

मास पूर्णिमांत – चैत्र

शुभ समय – 11:59:47 से 12:49:48 तक

अशुभ समय (अशुभ मुहूर्त)

दुष्टमुहूर्त – 16:59:55 से 17:49:56 तक

कुलिक – 16:59:55 से 17:49:56 तक

कंटक – 10:19:44 से 11:09:45 तक

राहु काल – 17:22 से 18:55

कालवेला/अर्द्धयाम – 11:59:47 से 12:49:48 तक

यमघण्ट – 13:39:49 से 14:29:51 तक

यमगण्ड – 12:24:48 से 13:58:35 तक

गुलिक काल – 06:31 से 08:04