25.1 C
Delhi
Tuesday, October 19, 2021

HARTALIKA TEEJ [हरतालिका तीज] के दिन करते हैं फुलहरा का प्रयोग, क्या होता है यह, जानिए

Must read

भाद्रपद के शुक्ल पक्ष की तृतीया को सुहागन महिलाएं पति की लंबी उम्र और अच्छे स्वास्थ्य के लिए हरतालिका तीज [hartalika teej] का निर्जला व्रत रखती है। इस दिन महिलाएं मिट्टी के शिवलिंग बनाकर पूरे दिन और रात इसकी आठों प्रहर पूजा करती हैं। इस दौरान फुलेरा या फुलहरा का विशेष महत्व होता है। आओ जानते हैं कि यह क्या होता है।

पूजन सामग्री : गीली काली मिट्टी या बालू, बेलपत्र, शमी पत्र, केले का पत्ता, धतूरे का फल एवं फूल, आंक का फूल, मंजरी, जनेऊ, वस्त्र, फल एवं फूल पत्ते, श्रीफल, कलश, अबीर,चंदन, घी-तेल, कपूर, कुमकुम, दीपक, फुलहरा, विशेष प्रकार की 16 पत्तियां और 2 सुहाग पिटारा। इसी में से एक है फुलेरा।

 

1. क्या होता है फुलहरा : प्राकृतिक फूल-पत्तियों, जड़ी-बूटियों और बांस के बंच को फुलहरा कहते हैं। यह सभी माता पार्वती और शिवजी को अर्पित किए जाते हैं।

 

2. बनाने में लगते हैं घंटों : इस फुलहरे को बनाने में कई घंटों का समय लग जाता है। फुलहरे की लंबाई 7 फुट होती है। यह प्राकृतिक फुलहरा तीज पर बांधा जाता है। फुलहरे में कुछ विशेष प्रकार की पत्तियों और फूलों का प्रयोग होता है।

यह भी पढ़े :  SHARADIYA NAVATRI [शारदीय नवरात्रि] 2021 : नवरात्र के उपवास करने के पहले जान लें 10 रहस्य

3. बांस का होता है प्रयोग : फुलेरा बांस की पतली लकड़ियों को छिलकर बनाया जाता है। इसको बनाने के लिए कटर, टेप, रेशम धागा, कैची, रेजमाल और फूल आदि की आवश्यकता पड़ती है। इसमें विभिन्न रंगों के फूल का प्रयोग करते हुए उसे सुंदर से सुंदर बनाया जाता है।

 

4. फुलहरा की प्रमुख सामग्री : इसमें बिंजोरी, मौसत पुष्प, सात प्रकार की समी, निगरी, रांग पुष्प, देवअंतु, चरबेर, झानरपत्ती, लज्जाती, बिजिरिया, धतूरे का फूल, धतूरा, मदार, हिमरितुली, ‍नवकंचनी, तिलपत्ती, शिल भिटई, शिवताई, चिलबिनिया, सागौर के फूल, नवबेलपत्र, हनुमंत सिंदूरी, वनस्तोगी आदि फूल पत्तियां या जड़ी बूटियां होती हैं।

यह भी पढ़े :  JYOTISH SHASTRA गंदे दिखने वाले ये जानवर भी देते हैं शुभ संकेत, जानें पशुओं से जुड़े शकुन और अपशकुन
- Advertisement -spot_img

More articles

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here
यह भी पढ़े :  Pitru Paksha 2021: मृत सुहागिन महिला, बच्‍चे, साधुओं का इन तिथियों पर करना चाहिए श्राद्ध, मिलती है आत्‍मा को शांति

- Advertisement -spot_img

Latest article