Reserve Bank of India : 100 एवं 200 रुपये के छोटे नोटों पर रिजर्व बैंक का बड़ा ऐलान.

Reserve Bank of India : 100 एवं 200 रुपये के छोटे नोटों पर रिजर्व बैंक ने बड़ा कदम उठाया है. कई बार बड़े नोटों की वजह से लोगों को काफी परेशानियों का सामना करना पड़ता है. हर दुकानदार बड़े नोटों की छूटें देने से इनकार करता है. जिसके कारण बड़े नोटों के इस्तेमाल में काफी कमी आई है और एटीएम में भी लोगों को ₹500 से कम की नोट काफी कम मिलते हैं. जिससे लोगों को काफी परेशानियों का सामना करना पड़ता है. ऐसे में रिजर्व बैंक ने अब छोटे नोटों को बट की बढ़ोतरी करने का फैसला किया है. इसके बाद अब एटीएम में छोटे नोटों की संख्या बढ़ाने पर आरबीआई विचार कर रही है.

मनी9 की रिपोर्ट के मुताबिक, रिजर्व बैंक ऑफ इंडिया एटीएम में 100 और 200 के नोटों की संख्या बढ़ाने के लिए गाइडलाइंस भी जारी कर सकता है. इसके साथ ही आरबीआई यूपीआई आधारित एटीएम लगाने पर भी विचार कर रहा है. यूपी आधारित एटीएम से लोग छोटे-छोटे ट्रांजैक्शन कर सकेंगे. जिससे लोगों को किसी तरह की कोई परेशानी नहीं होगी.

बता दें कि आरबीआई के अधिकारियों ने शिकायतों के बाद इस बात का संज्ञान में लिया. खुले पैसों को लेकर आ रही समस्या पर इस महीने रिजर्व बैंक के अधिकारियों की अहम बैठक हुई. इस बैठक में कई सुझाव दिए गए है इनमें यूपीआई एटीएम से लेकर अधिक छोटे नोटों को बाजार में उतारने जैसे कदमों पर बात हुई.

 

छोटे नोटों की संख्या हो रही कम :

सूत्रों के अनुसार, 5, 10, 50 रुपए जैसे छोटे नोटों पर भी RBI कुछ काम करने जा रहा है. क्योंकि लोगों को बाजार में 5, 10, 50 रुपए के नोट या सिक्के बहुत ही कम देखने को मिलते है. जब लोग बाजार में कुछ भी खरीदारी करते हैं. तो छोटे नोटों की कमी के चलते उनको 50, 100, 200, 500, रुपए खर्च करने पड़ते हैं. क्योंकि लोगों को बैंक से छोटे नोट बहुत कम ही मिलते हैं और बाजार में भी लोगों के छोटे नोट बहुत कम देखने को मिलते है.

यह भी पढ़े :  Bank FD Rules : बड़ी खबर ! RBI ने एफडी के नियमों में किया बड़ा बदलाव, जानिए आप पर क्या होगा असर?

बता दें कि बाजार और आम लोगों के बीच छोटे नोटों की संख्या दिन पर दिन कम होती जा रही है. जब आम जनता बाजार में खुले पैसे कराने जाते हैं तो उनको बाजार में भी छोटे नोट नहीं मिलते हैं. जिससे लोगों को खुले पैसों के लिए इधर-उदर घूमने के कारण काफी परेशान होना पड़ता है.