Sarson Ke Tel Ke Upay : चमक उठेगी तकदीर और होगी धन की वर्षा सरसों के तेल मे जलाएंगे दीपक तो.

Sarson Ke Tel Ke Upay : सरसों के तेल (Mustard Oil) का इस्तेमाल मनुष्य कई सदियों से करता चला आ रहा है. सरसों का तेल ना सिर्फ खाने के लिए बल्कि सर्दियों (Winter) में शरीर पर लगाने के लिए भी अच्छा माना जाता है. इसके अलावा हिन्दू धर्म (Hinduism) में सरसों के तेल का उपयोग पूजा-पाठ और धार्मिक कार्यों में भी किया जाता है. सनातन धर्म में घी के दिए जलाने के साथ सरसों के तेल के दिए जलाने की परम्परा भी बहुत पुरानी है. ऐसा माना जाता है कि शनि देव को सरसों का तेल अर्पित करने से वे प्रसन्न होते हैं, और भक्तों पर कोई संकट नहीं आने देते. इसके अलावा सरसों के तेल से जुड़े कुछ उपाय भी हैं जिनको करने से व्यक्ति को कभी भी धन से संबंधित समस्याओं का सामना नहीं करना पड़ता है. आइए जानते हैं कौन से हैं वे उपाय?

1. पीपल के पेड़ पर सरसों के तेल का दीपक जलाएं

मान्यताओं के अनुसार पीपल के पेड़ पर लगातार 40 दिनों तक सरसों के तेल का दीपक जलाने से व्यक्ति को आकस्मिक धन लाभ होता है, और रुका हुआ धन मिलने की संभावना भी बड़ जाती है.

2. सरसों के तेल का दीपक पानी में प्रवाहित करें

सरसों के तेल के दीपक को बहते हुए पानी में प्रवाहित करने से धन लाभ होता है, और गरीबी दूर होती है.

3. सरसों के तेल को कांच की शीशी में डालकर बहाएं
व्यापार और नौकरी में तरक्की चाहने वालों को सरसों के तेल को एक कांच की शीशी में डालकर उसे नदी में प्रवाहित कर देना चाहिए. इससे तरक्की के रास्ते खुल जाते हैं.

यह भी पढ़े :  SANJA LOK PARV संजा लोकपर्व : क्यों खास है यह पर्व, जानिए पौराणिक महत्व

4. सरसों के तेल में दो कौड़ियां डालें
सरसों के तेल का दिया जला कर उसमें दो कौड़ियां डाल दें. ऐसा करने से माता लक्ष्मी प्रसन्न होती है और धन की कमी नहीं होती.

5. सरसों का तेल मुख्य दरवाजे के दोनों तरफ गिराएं
यदि किसी व्यक्ति को धन संबंधी समस्या आ रही हो, तो सुबह स्नान करने के बाद सरसों का तेल अपने घर के मुख्य दरवाज़े के दोनों तरफ थोड़ा-थोड़ा गिराएं. इससे घर की नकारात्मक ऊर्जा खत्म होती है, और यदि कुंडली में कोई ग्रह दोष है तो वह भी समाप्त हो जाता है.

6. भगवान भैरव के सामने सरसों के तेल का दीपक जलाएं
जीवन में सभी कष्टों से मुक्ति पाने के लिए भगवान भैरव के सामने सरसों के तेल का दीपक जलाना चाहिए. ऐसा करने से भैरव प्रसन्न होते हैं.