Putrada Ekadashi 2022 : जानें पुत्रदा एकादशी मुहूर्त पूजा व्रत पारण समय.

Putrada Ekadashi 2022: पंचांग के अनुसार, इस वर्ष पौष माह (Paush Month) की पुत्रदा एकादशी व्रत आज 13 जनवरी दिन गुरुवार को रखा जाएगा. हर साल पौष माह के शुक्ल पक्ष की एकादशी तिथि को पुत्रदा एकादशी होती है. इसे वैकुंठ एकादशी (Vaikuntha Ekadashi) भी कहते हैं. पुत्रदा एकादशी के दिन व्रत रखना चाहिए और भगवान श्रीहरि विष्णु (Lord Vishnu) की विधिपूर्वक पूजा करनी चाहिए. धार्मिक मान्यताओं के अनुसार, ऐसा करने से पुत्र की प्राप्ति होती है और मृत्यु के बाद मोक्ष भी प्राप्त होता है. कहा जाता है कि वैकुंठ एकादशी के दिन भगवान विष्णु के धाम वैकुंठ के द्वार खुले होते हैं, जो व्रत एवं पूजा करता है, उसे मृत्यु के बाद श्रीहरि विष्णु के चरणों में स्थान प्राप्त होता है. आइए जानते हैं कि पुत्रदा एकादशी का पूजा मुहूर्त (Puja Muhurat) एवं पारण समय (Parana Time) क्या है.

पुत्रदा एकादशी 2022 मुहूर्त एवं पारण समय : 

पंचांग के अनुसार पौष शुक्ल एकादशी तिथि 12 जनवरी दिन बुधवार को शाम 04:49 बजे से लग गई है, जो आज 13 जनवरी दिन गुरुवार को शाम 07:32 बजे तक है. उदयातिथि के अनुसार, पुत्रदा एकादशी व्रत आज 13 जनवरी को रखा जाएगा.

इस वर्ष पुत्रदा एकादशी शुभ योग में है. 13 जनवरी को शुभ योग दोपहर 12:35 बजे तक है. उसके बाद से शुक्ल योग शुरु हो जाएगा. इस दिन रवि योग भी सुबह 07:15 बजे से शाम 05:07 बजे तक है. रवि और शुभ योग में पुत्रदा एकादशी का व्रत करना सभी मनोकामनाओं की पूर्ति करने वाला है. जो लोग व्रत रहेंगे या पुत्रदा एकादशी की पूजा करना चाहते हैं, तो प्रात:काल स्नान के बाद कर सकते हैं. पुत्रदा एकादशी को शुभ मुहूर्त दोपहर 12:09 बजे से दोपहर 12:51 बजे तक है.

यह भी पढ़े :  Swastik Ki Puja Ka Mahatva ; क्यों शुभ कार्य से पहले बनाया जाता है स्वास्तिक आइए जानते हैं.

जो लोग पुत्रदा एकादशी का व्रत रहेंगे, उनको अपना व्रत 14 जनवरी दिन शुक्रवार को सुबह 07:15 बजे से सुबह 09:21 बजे के मध्य पारण कर लेना चाहिए. यह पारण के लिए अच्छा समय है. सूर्योदय के बाद स्नान आदि से निवृत्त होकर पारण कर व्रत को पूरा करना चाहिए.

Leave a comment