Pitru Paksha 2022 : आपको भी आते हैं पूर्वजों के ऐसे सपने जानें किस बात का देते हैं संकेत पितृ पक्ष में.

Pitru Paksha 2022 Ancestors in Dream: हिंदू धर्म में पितृ पक्ष के हर दिन का विशेष महत्व होता है. दरअसल पितृ पक्ष (Pitru Paksha 2022) एक ऐसा शुभ अवसर होता है जब लोग अपने पूर्वजों के निमित्त पिंडदान, तर्पण और श्राद्ध कर्म करते हैं. पितृ पक्ष भाद्रपद मास की पूर्णिमा से लेकर आश्विन कृष्ण पक्ष की अमावस्या तक चलते हैं. इस साल पितृ पक्ष 10 सितंबर से शुरू होने वाले हैं. पित पक्ष की समाप्ति 25 सितंबर को सर्व पितृ अमावस्या (Sarva Pitru Amavasya 2022) के साथ होगा. मान्यता है कि पितृ पक्ष के दौरान पूर्वज पितृ लोक से धरती लोक पर पधारते हैं. इस दौरान ये कई माध्यमों में हमें अच्छे-बुरे का संकेत देते हैं. इन्हीं में से एक संकेत सपने में पितरों (Ancestors in Dream) का दिखाई देना है. आइए जानते हैं कि सपने में पितरों का दिखाई देना कैन-कौन से संकेत देते हैं.

पितृ पक्ष के दौरान सपने में बार-बार पितरों का दिखाई देना
कहा जाता है कि अगर पितृ पक्ष के दौरान सपने में बार-बार पूर्वज दिखाई दें तो इसका अर्थ यह है कि उनकी कोई इच्छा अधूरी रह गई है. सपने के माध्यम से वे आपको कुछ संकेत देना चाहते हैं. ऐस में आपको अपने पूर्वजों की आत्मा की शांति के लिए तर्पण, पिंडदान या श्राद्ध कर्म करवाना चाहिए. इसके अलावा उनके निमित्त जरुरतमंदों को दान दें.

पितरों का प्रसन्न मुद्रा में दिखाई देना

पितृ पक्ष के दौरान सपने में पूर्वजों को खुश मुद्रा में देखाई देना शुभ संकेत माना जाता है. अगर सपने में आपके पूर्वज आपको आशीर्वाद की मुद्रा में दिखाई दें तो इसका मतलब है कि वे आपसे खुश हैं. श्राद्ध पक्ष में किए गए पिंडदान और तर्पण उनके द्वारा स्वीकार कर लिया गया है.

यह भी पढ़े :  CHANAKYA NITI : अगर पत्‍नी करेगी इस मामले में शर्म तो हो जाएंगी जिंदगी बर्बाद.

पूर्वजों का शांत देखना
मान्यता है कि अगर सपने में आपको पूर्वज शांत मुद्रा में दिखाई दें तो ये इस बात का संकेत है कि वे आपसे संतुष्ट हैं. साथ ही जल्द ही कोई शुभ समाचार प्राप्त हो सकता है.

सपने में पूर्वजों को बहुत करीब दिखाई देना
मान्यतानुसार, अगर सपने में पूर्वज बहुत करीब दिखाई देते हैं तो इसका संकेत होता है कि वे अभी भी आपके परिवार का मोह त्याग नहीं कर पाए हैं. ऐसे में सर्वपितृ अमावस्या के दिन पूर्वजों के निमित्त धूप-दीप जलाना चाहिए. साथ ही पिंडदान और तर्पण करना चाहिए.