Narasimha Jayanti 2022 : नरसिंह जयंती पर इस मुहूर्त में विधिपूर्वक करें पूजा, शत्रु होंगे परास्त.

नरसिं​ह जयंती के अवसर पर श्रीहरि विष्णु के अवतार भगवान नरसिंह की पूजा की जाती है. भगवान नरसिंह की पूजा करने से भय, दुख आदि का अंत होता है और शत्रुओं पर विजय प्राप्त होती है. नरसिंह भगवान हर संकट से अपने भक्तों की रक्षा करते हैं, जिस प्रकार से उन्होंने अपने प्रिय भक्त प्रह्लाद की रक्षा की थी. हर साल वैशाख माह के शुक्ल पक्ष की चतुर्दशी तिथि को नरसिंह जयंती मनाई जाती है. इस साल नरसिंह जयंती आज 14 मई दिन शनिवार को है. आइए जानते हैं नरसिंह जयंती (Narasimha Jayanti) के मुहूर्त एवं पूजा विधि के बारे में.

नरसिंह जयंती 2022 मुहूर्त

वैशाख मास के शुक्ल पक्ष की चतुर्दशी तिथि का प्रारंभ: 14 मई, शनिवार, दोपहर 03:22 बजे

वैशाख मास के शुक्ल पक्ष की चतुर्दशी तिथि की समाप्ति: 15 मई, रविवार, दोपहर 12:45 बजे

पूजा का शुभ मुहूर्त: शाम 04:22 बजे से शाम 07:04 बजे तक

व्रत पारण का समय: 15 मई, रविवार, दोपहर 12:45 बजे से

सर्वार्थ सिद्धि योग में नरसिंह जयंती
नरसिंह जयंती के दिन सर्वार्थ सिद्धि योग, रवि योग और सिद्धि योग बन रहे हैं. इन योग में मांगलिक कार्य शुभ फल प्रदान करने वाले होते हैं. इस ​दिन सर्वार्थ सिद्धि योग शाम 05:28 बजे से शुरु हो रहा है, जो अगले दिन सुबह 05:30 बजे तक है. इस अवधि में ही रवि योग भी है. नरसिंह जयंती के दिन सुबह से लेकर दोपहर 12:59 बजे तक सिद्धि योग है.

नरसिंह जयंती पूजा विधि

1. इस दिन प्रात:काल स्नान आदि के बाद साफ कपड़े पहनें और पूजा स्थान की सफाई कर लें. फिर गंगाजल आदि छिड़ककर स्थान को पवित्र कर लें.

यह भी पढ़े :  RASHIFAL TODAY : 19 जनवरी का राशिफल : वृषभ राशि वालों के लिए है धन लाभ का योग्य, जानें क्या कहती है आपकी राशि

2. अब आप पूजा के मुहूर्त में भगवान नरसिंह या फिर भगवान विष्णु की ही मूर्ति या तस्वीर को स्थापित कर दें.

3. इसके बाद हाथ में जल, अक्षत्, फूल आदि लेकर नरसिंह जयंती की पूजा का संकल्प लें. फिर भगवान नरसिंह को अक्षत्, फूल, फल, चंदन, रोली, मिठाई, नैवेद्य, धूप, दीप, गंध आदि अर्पित करें. नीचे दिए गए मंत्र से नरसिंह भगवान की पूजा करें.

नृसिंह देवेदेवश तव जन्मदिने शुभे।
उपवासं करिष्यामि सर्वभोगवि​वर्जित:।।

4. अब आप नरसिंह भगवान के बीज मंत्र ओम श्री लक्ष्मीनृसिंहाय नम: का जाप करें.

5. पूजा के बाद नरसिंह देव की घी के दीपक या कपूर से आरती करें. पूजा के अंत में भगवान नरसिंह से संकटों को दूर करने और शत्रुओं पर विजय प्राप्ति के लिए प्रार्थना करें.