MAGH MONTH UPAY 2022 : इन उपायों को करने से मिलेगा अनन्त फल माघ महीने में.

Magh Month Upay 2022 In Hindi: माघ (Magh Maah) के माह का हिंदू धर्म में एक खास महत्व है. इस माह को स्वास्थ्य लाभ और पुण्य प्राप्ति के लिएृ बहुत ही उत्तम माना जाता है. कहते हैं कि यह (Magh maah puja) पवित्र महीना देवी-देवताओं की नियम से पूजा पाठ करने के लिए होता है. इस माह में पूरी श्रद्धा और आस्था के साथ पूजा की जाए तो सफल होती है. इस पुण्य देने वाले माह में बहुत से लोग एक महीने का कल्पवास करते हैं. शास्त्रों में इस महीने में किए जाने वाले कुछ खास कार्यों का विशेष रूप से उल्लेख किया गया है. मान्यता है कि अगर इस माह (Magh Month Upay) में आप पूरी भक्ति से ये कार्य करते हैं तो जीवन के हर एक कष्ट का निवारण हो जाता है.

आइए जानते हैं क्या हैं इस पवित्र माह में जीवन को सुखी तथा सम्पन्न बनाने के सरल उपाय-

पुण्यलाभ के लिए स्नान
नारदपुराण में उल्लेख किया गया है कि माघ मास में ब्रह्ममुहूर्त में स्नान करके से अनन्त फल की प्राप्ति होती है. इस माह में यज्ञ का भी खास महत्व है. ‘माघ मकर गति रवि जब होई,तीरथपतिहिं आव सब कोई !!’ इसका सीधा अर्थ है कि माघ के मास में जब सूर्य मकर राशि में अपना प्रवेश करते हैं तो सब लोग तीर्थों के राजा प्रयाग के पावन संगम तट पर आते हैं. यहां देवता, दैत्य ,किन्नर और मनुष्यों आदि आकर त्रिवेणी में स्नान करचे हैं. ऐसे में इस माह में स्नान का अति महत्व होता है.

यह भी पढ़े :  Shani Pradosh Vrat 2022 : शनि प्रदोष व्रत में करें ये 8 उपाय होगी शनि देव की कृपा.

सूर्य की उपासना
पदमपुराण के अनुसारस माघ माह में पूजा, तपस्या, यज्ञ से ज्यादा प्रातः स्नान करके भगवान सूर्य को अर्घ्य देने से ज्यादा फल की प्राप्ति होती है. ऐसा करने से भगवान विष्णु प्रसन्न होते हैं. सभी को स्नान करके सूर्य मंत्र का उच्चारण करते हुए सूर्य को अर्घ्य अवश्य माना जाता है. यदि इस माह में सूर्य की उपासना की जाती है तो हर एक कष्ट और परेशानी से मुक्ति होती है.

शिवलिंग पर अभिषेक
इस माह भगवान विष्णु की पूजा के अलावा शिवजी की पूजा का भी अनन्त महत्व है. हर प्रकार के रोगों से मुक्ति के लिए माघ मास में हर रोज जल में गंगाजल की कुछ बूँदें डालकर शिवलिंग चढ़ाना चाहिए. इसके अलावा कामना की पूर्ति के लिए इस माह में रुद्राभिषेक करना लाभदायक होता हैय

दान
इस मास में दान का अति महत्व होता है. ऐसे तो अपने सामर्थ के अनुसार दाम करना चाहिए.ऐसे में इस मास में तिल, गुड़ और कंबल के दान का विशेष महत्त्व माना गया है. अन्न से जुड़ी और हर एक जरूरत की चीजों का दान करना फलदायी होता है.