Lord Hanuman : मंगलवार के दिन करें ये आसान उपाय बजरंगबली को खुश करने के लिए.

Mangalvar Upay: पुराणों में उल्लेख मिलता है कि मंगलवार (Tuesday) के दिन ही बजरंगबली का जन्म हुआ था. ऐसा माना जाता है कि मंगलवार के दिन विधि विधान के साथ हनुमान जी की पूजा (Puja) करने से वह अपने भक्तों के सारे संकट दूर कर देते हैं. साथ ही हनुमान की पूजा करने से व्यक्ति को रोग, भूत, पिशाच और भय से मुक्ति मिल जाती है. इसके अलावा मंगलवार के दिन हनुमान (Lord Hanuman) की पूजा करने से यदि किसी की कुंडली (Kundali) में मंगल दोष होता है तो वह भी दूर हो जाता है. तो आज हम आपको मंगलवार के दिन हनुमान जी से जुड़े कुछ ऐसे उपाय बताने जा रहे हैं जिनको करने से बजरंगबली प्रसन्न होंगे और साथ ही आपके सारे कष्ट भी हर लेंगे.

– विजय प्राप्ति के लिए उपाय
ऐसा माना जाता है कि संकट मोचन हनुमान की मंगलवार के दिन पूजा पाठ करने से वे प्रसन्न होते हैं. साथ ही मंगलवार के दिन यदि कोई बजरंग बाण का पाठ करे और यह पाठ पूरे वैदिक रीति रिवाजों के अनुसार 21 मंगलवार तक किया जाए और सदैव सच्चाई के मार्ग पर चलने का संकल्प लिया जाए तो हनुमान जी आपके सभी शत्रुओं का नाश करते हैं.

मनोकामनाओं की पूर्ति के लिए
धार्मिक मान्यताओं के अनुसार यदि हनुमान जी की मूर्ति के सामने बैठकर भगवान राम के किसी भी मंत्र का जाप किया जाए तो इससे हनुमान जी प्रसन्न होते हैं. साथ ही आपकी सभी मनोकामनाएं भी पूरी करते हैं.

– सुख शांति और समृद्धि के लिए उपाय
यदि कोई व्यक्ति अपने जीवन में सुख शांति और समृद्धि चाहता है तो उसे मंगलवार के दिन हनुमान जी के मंदिर में गुड़ व चना प्रसाद के रूप में चढ़ाना चाहिए. यह प्रसाद हनुमान जी के सामने 21 मंगलवार तक लगातार चढ़ाना चाहिए. इसके अलावा हनुमान जी को चोला भी जरूर चढ़ाएं. ऐसा करने से व्यक्ति के जीवन में सुख शांति और समृद्धि बनी रहती है.

यह भी पढ़े :  Aaj Ka Panchang : 26 जुलाई 2022, मंगलवार : सावन शिवरात्रि, जानें मुहर्त और शुभ योग.

शनि के कष्टों से मुक्ति के लिए उपाय
यदि शनि देव की कुदृष्टि किसी राशि पर पड़ जाए तो उस राशि वाले जातकों के लिए बहुत कष्टदायक स्थितियां निर्मित हो जाती हैं. ऐसा माना जाता है कि जिन व्यक्तियों पर हनुमान की कृपा होती है उनका शनिदेव और यमराज भी कुछ नहीं बिगाड़ पाते. यदि आपको भी शनि ग्रह की पीड़ा से मुक्ति पाना है तो मंगलवार के दिन हनुमान जी के मंदिर में सुंदरकांड या हनुमान चालीसा का पाठ करें.