LIFE PARTNER ; इन 3 राशियों का है चंद्रमा से संबंध, मिलता है अच्छा जीवनसाथी; करते हैं खूब तरक्की.

ज्योतिष में राशियों को चार तत्वों में बांटा गया है. इन्हीं में से एक तत्व है- जल. इस तत्व में 3 राशियां आती हैं. इस तत्व की तीन राशियों में कर्क, वृश्चिक और मीन शामिल है. इस राशियों का संबंध चंद्रमा से है और ज्योतिष में ये नॅालेज, उदारता और कल्पना की राशियां मानी गई हैं. तो चलिए चंद्रमा से संबंधित इन तीन राशियों की खासियतों के बारे में बताते हैं.

कर्क राशि (Cancer)
कर्क जल तत्व की पहली राशि है. इस राशि का स्वामी चंद्रमा है. ज्योतिष के मुताबिक इस राशि के लोग बहुत सुंदर और चंचल होते हैं. साथ ही इस राशि के लोगों में कल्पना, दया और ज्ञान मिलता है. हालांकि भावुक होना इस राशि की सबसे बड़ी कमजोरी या समस्या है. इसके अवाला कर्क राशि के लोगों की शादीशुदा और लव लाइफ अक्सर अच्छी नहीं होती. कर्क राशि के लोगों को ज्योतिषी की सलाह से ओपल या मोती धारण करना अच्छा रहता है. साथ भी यथाशक्ति शिव जी की उपासना भी लाभकारी होता है.

वृश्चिक राशि (Scorpio)
वृश्चिक जल तत्व की दूसरी राशि है. ज्योतिष के मुताबिक इस राशि का स्वामी ग्रह मंगल है. इस राशि में चंद्रमा बहुत कमजोर होता है. वृश्चिक राशि वालों में कला लेखन, शिक्षा और राजनीति बहुत सारे गुण मौजूद रहते हैं. साथ ही इस राशि के लोग अच्छे डॉक्टर बनते हैं. वहीं वृश्चिक राशि वालों को कभी-कभी माता का सुख नहीं मिलता. लेकिन इस राशि वालों को जीवनसाथी अच्छा मिल जाता है. इस राशि को लोग दूसरों से बदला लेने में पीछे नहीं हटते. इस राशि के जातकों को ज्योतिषी की सलाह से मूंगा या माणिक धारण अच्छा होता है. इसके अलावा शिव जी की उपासना जरूर करनी चाहिए.

यह भी पढ़े :  Navratri 2021: इन 4 राशि वालों के लिए बेहद शुभ है नवरात्रि, आर्थिक स्थिति में आएगा बड़ा बदलाव

मीन राशि (Pisces)
मीन जल तत्व की तीसरी राशि है. इस राशि का स्वामी ग्रह गुरु है. इस राशि में चंद्रमा बिलकुल संतुलित होता है. ज्योतिष में इस राशि के लोगों में नॅालेज, ग्लैमर, कला और शिक्षा के अद्भुत गुण मौजूद होते हैं. साथ ही मीन राशि के लोग अच्छे होते हैं. हालांकि इस राशि के युवक युवावस्था में भटक जाते हैं. लेकिन बाद में सही राह पर आ जाते हैं और खूब तरक्की भी करते हैं. इस राशि की सबसे बड़ी कमजोरी हर चीज को परफेक्ट करना है. मीन राशि वालों को सलाह से मोती या पन्ना पहनना चाहिए. इसके अलावा भगवान शिव की पूजा भी करनी चाहिए.