HANUMAN JI STORY : मंगलवार को हनुमान जी की कथा पढ़ने से दूर होंगे संकट लेकिन भूलकर भी न करें ये काम.

मान्यता है कि संसार में 8 लोगों को चिरंजीवी (दीर्घायु) होने का वरदान मिला हुआ है. ऋषि के महान आशीर्वाद से चैत्र शुक्ला पूर्णिमा के दिन माता अंजनी भगवान शंकर के 11वें अवतार श्री हनुमानजी को जन्म देती हैं. मंगलवार (lord shri hanuman ji puja vrat) के शुभ दिन श्रीराम रक्षा स्तोत्र, रामचरितमानस, श्रीहनुमान चालीसा, बजरंग बाण, हनुमाष्टक, सुंदरकांड, श्री हनुमान बाहुक का आस्था पूर्वक पाठ करने से मनोवांछित फल की प्राप्ति होती है.

मंगलवार के दिन भगवान बजरंगबली की पूजा करने से सभी प्रकार के शारीरिक कष्ट से मुक्ति मिलती है. हुनमान जी आठ चिरंजीवियों में से एक हैं. कहते हैं कि संसार में 8 लोगों को चिरंजीवी (दीर्घायु) होने का वरदान मिला हुआ है. इन्हें अष्ट चिरंजीवी कहा जाता है. धार्मिक ग्रंथों के मुताबिक

अश्वत्थामा बलिव्यासो हनूमांश्च विभीषण:। कृप: परशुरामश्च सप्तएतै चिरंजीविन:॥

सप्तैतान् संस्मरेन्नित्यं मार्कण्डेयमथाष्टमम्। जीवेद्वर्षशतं सोपि सर्वव्याधिविवर्जित।।

हनुमानजी, वेदव्यास, विभीषण, राजा बलि, अश्वत्थामा, कृपाचार्य, परशुराम जी और मार्कण्डेय जी अष्टचिरंजिवी कहलाते हैं. कहा जाता है कि आज भी अदृश्य रूप में शाश्त्रों में बताये गए स्थानों पर ये सभी तपस्या कर रहे हैं.

हनुमान जी की कथा:

हनुमान जी की माता अंजनी अपने पिछले जन्म में चंचल (नटखट) थीं. एक ऋषि से अनुचित व्यवहार के फलस्वरुप उन्हें ये श्राप मिला था कि वे अगले जन्म में वानर योनि में जन्म लेंगी. माता अंजनी काफी तपस्या करती हैं तब उन्हें उक्त ऋषि आशीर्वाद देते हैं कि आप वानर योनि में एक महा पराक्रमी, सद्गुणी, बुद्धिमान, अतुलित बल के स्वामी, और तजस्वी पुत्र की माता होंगी. ऋषि के महान आशीर्वाद से चैत्र शुक्ला पूर्णिमा के दिन माता अंजनी भगवान शंकर के 11वें अवतार श्री हनुमानजी को जन्म देती हैं.

यह भी पढ़े :  ANGARAK DOSHA : इस राशि में बना खतरनाक अंगारक योग, जानें क्या पड़ेगा आपकी राशि पर असर.

हनुमान चालीसा का करें पाठ :

आज के वर्तमान युग में खासकर कोरोना काल में श्री हनुमान चालीसा एक वरदान है. सभी हनुमान भक्त (lord shri hanuman ji puja vrat) उत्तर दिशा की ओर मुख करके तुलसीदास जी के द्वारा लिखित इस महा ग्रंथ का पाठ करें. नासै रोग हरे सब पीरा। जपत निरंतर हनुमंत बीरा ।। इस दोहे का सभी हनुमान भक्त आस्था पूर्वक पाठ करें और वीर हनुमान से प्रार्थना करें कि संसार इस वक्त जिस महामारी से जूझ रहा है उससे जल्द ही सभी को छुटकारा मिले. मंगलवार के शुभ दिन श्रीराम रक्षा स्तोत्र, रामचरितमानस, श्रीहनुमान चालीसा, बजरंग बाण, हनुमाष्टक, सुंदरकांड, श्री हनुमान बाहुक का आस्था पूर्वक पाठ करने से मनोवांछित फल की प्राप्ति होती है.

ऐसे करें वीर हनुमान की पूजा :

मंगलवार को सुबह उठकर सबसे पहले स्नान करे. स्नान आदि से निवृत्त होने के बाद साफ वस्त्र धारण करें. हनुमान को लाल कपड़े के आसन पर बैठाएं. श्रीहनुमान जी को लाल तिलक, लाल सिंदूर, रक्त चंदन, लाल फूल, कलावा की माला पहनाएं. शुद्ध घी के दीपक जलाएं. बजरंगबली को चना, रेवड़ी, गुड़, मगज के लड्डू का भोग लगाएं. इस विपदा काल में प्रसाद स्वरूप गुड़ चना शरीर को शक्ति देंगे. श्रीहनुमान जी संकट को टालने वाले और भय को दूर करने वाले देवता हैं, हनुमान की आराधना (lord shri hanuman ji puja vrat) से शरीर में शक्ति का संचार होता है और आत्मविश्वास बढ़ता है.

इन मंत्रों का करें जाप:

अतुलितबलधामं हेमशैलाभदेहं, अनुजवनकृशानुं ज्ञानिनामग्रगण्यम्।

सकलगुणनिधानं वानराणामधीशं, रघुपतिप्रियभक्तं वातजातं नमामि।

मनोजवं मारुततुल्यवेगं जितेन्द्रियं बुद्धिमतां वरिष्ठम्।

वातात्मजं वानरयूथमुख्यं श्रीरामदूतम् शरणं प्रपद्ये।।

यह भी पढ़े :  Love Horoscope : इन राशियों के जातकों को मिल सकता है सरप्राइज डेट पर जाने का बनेगा प्लान.

केसरीनंदन के दिन पहनें लाल :

वहीं, हिन्दू धार्मिक मान्यताओं के मुताबिक सप्ताह का हर दिन किसी न किसी देवता को समर्पित होता है. मंगलवार केसरीनंदन हनुमान का दिन होता है. सो इस अनुसार भी मंगलवार को लाल रंग या भगवा रंग के कपड़े धारण करना लाभप्रद होता है. जानकार कहते हैं, लाल रंग प्रेम, शक्ति और ऊर्जा का प्रतीक है. और ये तीनों गुण हनुमान जी में विद्यमान है. श्री राम से प्रेम का प्रदर्शन हो, संजीवनी बूटी की तलाश में पूरा पर्वत उठाना हो या फिर लंका दहन- बजरंगबली के इन गुणों का साक्षात दर्शन होता है. इसलिए इस दिन लाल अथवा भगवा रंग (Saffron) के कपड़े पहनने चाहिए.

भूलकर भी न करें ये काम

मांस और शराब का सेवन न करें :
मंगलवार के दिन हनुमान जी की पूजा की जाती है और इस दिन भूलकर भी शराब या मांस का सेवन नहीं करना चाहिए. कहा जाता है कि इससे पवन पुत्र हनुमान रूष्ट हो जाते हैं और आपके परिवार व जीवन पर नकारात्मक प्रभाव पड़ता है.

न काटे बाल व नाखून :
मंगलवार के दिन बाल कटवाना, शेविंग कराना या नाखून काटना अशुभ माना जाता है. मान्यता है कि मंगलवार के दिन ये काम करने से धन और बुद्धि दोनों की कमी होती है. शास्त्रों के मुताबिक मंगलवार के दिन बाल काटने से उम्र 8 महीने कम हो जाती है.

धारदार चीजें खरीदने से बचें :
मंगलवार के दिन गलती से भी धारदार चीजें जैसे कि चाकू, कैंची या कांटा आदि नहीं खरीदना चाहिए. ऐसा करने से घर-परिवार में कलेश बढ़ता है.

यह भी पढ़े :  VASTU TIPS : चमकेगी किस्‍मत किचन में रखेंगे मिट्टी के बर्तन तो आएगी खुशहाली.

काले रंग के वस्त्र पहनना अशुभ :
वैसे तो किसी पूजा या शुभ कार्य में काले रंग के कपड़े नहीं पहनने चाहिए. लेकिन मंगलवार के दिन काले रंग के कपड़े पहनने से शनि का प्रभाव पड़ता है. मान्यता है कि शनि और मंगल का संयोग बेहद ही कष्टकारी होता है. मंगलवार के दिन लाल रंग के कपड़े पहनना और दान करना शुभ होता है.

निवेश या लेन-देन न करें :

मंगलवार के दिन किसी भी काम में निवेश नहीं करना चाहिए. इससे कार्य में असफलता मिलती है. इस दिन को किसी को न उधार दें और न ही किसी से उधार लें.