Garuda Purana: दिन में कभी भी दिख जाए ये 4 चीज तो कट जाता है बुरा वक्त, जीवन रहता है खुशहाल.

हिन्दू धार्मिक मान्यताओं में गाय को सबसे पवित्र पशु माना जाता है. ऐसा इसलिए क्योंकि समुद्र मंथन से गाय की भी उत्पत्ति हुई थी. यदि सुबह या फिर दिन कभी भी गाय के दर्शन हो जाए तो बुरा समय जल्द ही दूर हो जाता है.

गुरुड़ पुराण को हिंदू धर्म में खास माना जाता है. इस ग्रंथ को मृत्यु के बाद होने वाले विधि-विधानों से जोड़कर देखा गया है. हिंदू धर्म की मान्यताओं में किसी की मृत्यु के बाद गुरुड़ पुराण का पाठ कराया जाता है. मान्यता है कि इसके पाठ से मरने वालों को स्वर्ग मिलता है. लेकिन इसके अलावा भी कई खास बातें गुरुड़ पुराण में बताई गई हैं. साथ ही इसमें शगुन-अपशगुन की बातें भी बताई गई है. गुरुड़ पुराण के मुताबिक दिन भर में 4 चीजों के दिख जाने से का बुरा समय अच्चा हो जाता है.

गाय :
हिन्दू धार्मिक मान्यताओं में गाय को सबसे पवित्र पशु माना जाता है. ऐसा इसलिए क्योंकि समुद्र मंथन से गाय की भी उत्पत्ति हुई थी. यदि सुबह या फिर दिन कभी भी गाय के दर्शन हो जाए तो बुरा समय जल्द ही दूर हो जाता है. ऐसे में जब भी गाय के दर्शन हो तो मन ही मन नमन करें.

गोमूत्र :
हिन्दू धर्म में गोमूत्र शुभ माना गया है. इसलिए इसका इस्तेमाल पूजा-पाठ या दूसरे शुभ कामों किया जाता है. इसलिए गोमूत्र का दर्शन करना शुभ माना गया है. इसके अलावा शास्त्रों में गोमूत्र का सेवन अच्छा माना गया है. साथ ही आयुर्वेद में गोमूत्र का इस्तेमाल कई प्रकार की दवाइयां बनाने में भी किया जाता है.

यह भी पढ़े :  CHANAKYA NITI : इन बातों का ध्यान रखें सेहत और धन को लेकर हमेशा नहीं तो पूरी जिंदगी झेलना पड़ेगा संकट.

पके हुए फसल :
गरुड़ पुराण के अनुसार रास्ते में फसल की खेत दिखना शुभ संकेत है. वहीं अगर फसल पके हैं तो यह और भी शुभ होता है. गरुड़ पुराण में ऐसा उल्लेख है कि पकी हुई फसलों से भरे हुए खेत को देखने से इंसान को पुण्य के साथ-साथ लाभ मिलता है.

गाय की खुर की धूल :
गाय अपने पैरों से जमीन को खुरचती है. इसके ऐसा पर जमीन से जो धूल उड़ती है. जिसे उसे गोधूलि यानि गाय के खुर की धूल कहते हैं. मान्यता है कि गाय के पैरों से निलकी हुई धूल भी पवित्र हो जाती है. गोधूलि को देखने मात्र से ही इंसान को कई गुना पुण्य मिलता है.