Ganesh Jayanti 2022 : जानिए कब हैं गणेश जी का जन्मदिन एवं मुहूर्त.

Ganesh Jayanti 2022: माघ मास (Magh Month) के शुक्ल पक्ष का प्रारंभ 02 फरवरी दिन बुधवार से हो रहा है. हालांकि माघ अमावस्या या मौनी अमावस्या तिथि दिन में 11 बजकर 15 मिनट तक है. उसके बाद शुक्ल पक्ष की प्रतिपदा प्रारंभ होगी, लेकिन तिथि 02 फरवरी से उदयातिथि अनुसार मान्य होगी. माघ शुक्ल पक्ष में गणेश जी का जन्मोत्सव आ रहा है. माघ मास की विनायक चतुर्थी (Vinayak Chaturthi) को गणेश जयंती मनाते हैं. पौराणिक मान्यता है कि माता पार्वती ने माघ शुक्ल चतुर्थी तिथि को गणेश जी को उत्पन्न किया था, इसलिए इस तिथि को गणेश जयंती मनाते हैं. आइए जानते हैं कि विघ्नहर्ता श्री गणेश जी की जयंती कब है और पूजा का मुहूर्त (Puja Muhurat) क्या है?

गणेश जयंती 2022 पूजा मुहूर्त
पंचांग के आधार पर माघ शुक्ल चतुर्थी तिथि 04 फरवरी को सुबह 04:38 बजे से प्रारंभ हो रही है, यह अगले दिन 05 फरवरी सुबह 03:47 मिनट बजे समाप्त होगी. इस तिथि का प्रारंभ 04 को प्रात:काल में हो रही है, ऐसे में उदयातिथि अनुसार गणेश जयंती 04 फरवरी दिन शुक्रवार को मनाई जाएगी. इस दिन विनायक चतुर्थी का व्रत रखा जाएगा.

इस दिन शिव योग एवं रवि योग में गणेश जयंती मनाई जाएगी. गणेश जयंती को शिव योग शाम 07:10 बजे तक है, वहीं रवि योग सुबह 07:08 बजे से दोपहर 03:58 बजे तक है.

गणेश जयंती पर भगवान गणेश जी की पूजा का मुहूर्त दोपहर में 11:30 बजे लेकर दोपहर 01:41 बजे तक है. विनायक चतुर्थी के दिन गणेश जी की पूजा के लिए 02 घंटा 11 मिनट तक शुभ मुहूर्त है.

यह भी पढ़े :  Kumbh Sankranti 2022 : जानें पूजा मुहूर्त एवं दरिद्रता दूर करने का उपाय कुंभ संक्रांति पर.

गणेश जयंती पर चंद्र दर्शन वर्जित
गणेश जयंती के दिन चंद्रमा दर्शन वर्जित होता है. यह विनायक चतुर्थी है, इसमें चंद्रमा को देखने से मिथ्या कलंक लगता है. यदि आप व्रत हों या न हों, फिर भी इस दिन चंद्रमा का दर्शन नहीं करना चाहिए.

गणेश जयंती 2022 महत्व
कथाओं के अनुसार, माता पार्वर्ती के मन में जब पुत्र की इच्छा हुई, तो उन्होंने उबटन से गणेश जी की उत्पत्ति की थी. जिन लोगों को संतान की चाह होती है, उनको गणेश जयंती या माघ ​विनायक चतुर्थी का व्रत रखना चाहिए. भगवान गणेश इस दिन अपने भक्तों की मनोकामनाएं पूरी करते हैं और उनको संकटों से उबारते हैं.