vastu tips: घर के आसपास नहीं होने चाहिए 5 पेड़, तंगहाली से जीवन हो जाता है तबाह!

वास्तु शास्त्र भारत का प्राचीन शास्त्र है, जिसमें खुशहाल जीवन के लिए खास बातें बताई गई हैं. वास्तु शास्त्र के मुताबिक यदि घर या उसके आपसास का वातावरण वास्तु अनुरूप है तो वह सभी दृष्टिकोण से शुभ होता है. वास्तु के अनुसार सकारात्मक उर्जा को बनाए रखने के लिए पेड़-पौधों का भी अहम योगदान होता है. तुलसी का पौधा सकारात्मक उर्जा का जीवंत प्रतीक है. इसके अलावा नीम, मनी प्लांट आदि भी शुभ मानें गये हैं. ऐसा वास्तु शास्त्र में वर्णन किया गया है. इसके अलावा यदि घर में या इसके आसपास लगे कुछ पौधे निगेटिव एनर्जी उत्पन्न करते हैं. वास्तु अनुसार कुछ खास पेड़-पौधों के बारे में आगे जानते हैं.

इमली का पेड़ (Tamarind Plant)
वैसे तो सेहत के लिहाज से इमली लाभकारी होती है, लेकिन वास्तु की दृष्टि से यह अशुभ होती है. वास्तु शास्त्र के मुताबिक इमली के पौधे को घर या आसपास लगाने से निजेटिव एनर्जी पैदा होती है. जिसकी वजह के घर के सदस्य अनेक प्रकार की बीमारियों से परेशान रहते हैं. इसके अलावा घर के सदस्यों के बीच आपसी मनमुटाव भी बना रहता है.

पीपल (Peepal)
आमतौर पर पीपल को धार्मिक दृष्टिकोण से शुभ मानकर इसकी पूजा की जाती है. परंतु वास्तु के जानकार बताते हैं कि इसे घर में नहीं लगाना चाहिए. इसके साथ ही पीपल को घर के आपसास लगाने से भी बचना चाहिए. माना जाता है कि इससे आर्थिक नुकसान होता है.

नागफनी (Cactus Plant)
वास्तु शास्त्र के अनुसार घर के परिसर में किसी भी प्रकार का कांटेदार पेड़ या पौधा नकारात्मक उर्जा उत्पन्न करता है. नागफनी भी कांटेदार पौधा ही है. ऐसे में नागफनी या उसके जैसे कांटे वाले पौधे घर या आसपाल नहीं लगाना चाहिए. क्योंकि इसकी निगेटिव एनर्जी के कारण परिवार के सदस्यों के बीच आपसा मनमुटाव बढ़ता है.

यह भी पढ़े :  Sharad Purnima 2022 Date : चांद की रोशनी में रखी खीर क्यों खाते हैं इस दिन कब है शरद पूर्णिमा.

खजूर का पौधा (Date palm Plant)
घर में खजूर का पेड़ लगाना वास्तु के नजरिए से कतई शुभ नहीं है. यह पेड़ भी कांटेदार होता है. ऐसे में वास्तु के जानकार कहते हैं कि इसे घर के इलाके के आसपास लगानें से बचना चाहिए. ऐसा इसलिए कि कांटेदार खजूर का पेड़ घर-परिवार के सदस्यों की तरक्की में बाधक बनता है.

मदार का पौधा (Giant calotrope)
मदार का पौधा भी घर या उसके आसपास लगाना वास्तु के दृष्टिकोण से अशुभ होता है. दरअसल इसके पौधे से दूध निकलता है. जिसे वास्तु का जानकार निगेटिव एनर्जी का कारण मानते हैं. मदार से उत्पन्न निगेटिव एनर्जी घर-परिवार की उन्नति में बाधा बनती है.