RULE OF BRACELET WEARING : पहन रखे हैं ब्रेसलेट या लॅाकेट, तो पहले जान लें इससे जुड़े खास नियम; वरना होगा नुकसान.

इंसान के जीवन में हर पल किसी न किसी चुनौती का सामना करना पड़ता है. हर कोई चाहता है कि उसके जीवन में आने वाली समस्या का समाधान आसानी से हो जाए. इलके लिए कुछ लोग जप, दान, पूजा-पाठ या हवन आदि करते हैं. जबकि कुछ ब्रेसलेट, लॅाकेट या ग्रहों के धातु पहनते हैं. ज्योतिष के अनुसार इस चीजों को धारण करने से ग्रहों के दोष दूर होते हैं. जिससे जीवन में सुख और शांति आती है. वहीं जब गलत ढंग से ब्रेसलेट या लॅाकेट धारण किए जाते हैं तो फायदे की जगह नुकसान होता है. ऐसे में ज्योतिष के मुताबिक इसे धारण करने का सही तरीका क्या है, इसे जानते हैं.

ग्रहों के लिए विशेष धातु की ब्रेसलेट, लॅाकेट और मंत्र

शनि- शनि दोष से मुक्ति के लिए लोहे का कड़ा धारण किया जाता है. इसे धारण करने से पहले किसी शनिवार को ओम् शं शनैराय नमः मंत्र का जप करना चाहिए.

राहु- राहु के लिए पंचधातु का ब्रेसलेट, लॅाकेट या कड़ा धारण किया जाता है. इसे धारण करने से पूर्व ऊँ रां राहवे नमः मंत्र का जप करना चाहिए.

केतु- केतु के लिए आष्टधातु का लॅाके, कड़ा या ब्रेसलेट धारण किया जाता है. इसे धारण करने से पहले ऊँ कें केतवे नम: मंत्र का जप करना चाहिए.

चंद्रमा- चंद्र ग्रह के दोष को दूर कर शुभता पाने के लिए चांदी का ब्रेसलेट या कड़ा धारण किया जाता है. इसे धारण करने से पहले ओम् सों सोमाय नमः मंत्र का जप करना चाहिए.

मंगल- मंगल के शुभ प्रभाव के लिए तांबे या सोने का कड़ा धारण करना चाहिए. और भी अधिक शुभता पाने के लिए पहले ओम् घृणिः सूर्याय नमः मंत्र का जप करना चाहिए.

यह भी पढ़े :  Margashirsha Shivratri 2022 : आज मासिक शिवरात्रि पर बन रहे बेहद शुभ योग, इस उपाय से दूर होंगी वैवाहिक समस्‍याएं.

सूर्य- सूर्य को मजबूत बनाने के लिए तांबे का कड़ा या ब्रेसलेट पहनना चाहिए. साथ ही धारण करने से पहले ओम् घृणिः सूर्याय नमः मंत्र का जप करना चाहिए.

बुध- बुध ग्रह की शुभता के लिए कांसे का ब्रेसलेट या कड़ा धारण करना चाहिए. इसे धारण करने से पहले ओम् बुं बुधाय नमः मंत्र का जप करना चाहिए.

गुरू- गुरू ग्रह की शुभता के लिए सोने का कड़ा धारण करना चाहिए. इसे पहनने से पहले ऊं गुं गुरवे नम: मंत्र का जाप करना चाहिए.

शुक्र- शुक्र के शुभ प्रभाव के लिए चांदी का कड़ा या ब्रेसलेट धारण किया जाता है. इसके अशुभ प्रभाव से बचने के लिए ऊँ शुं शुक्राय नमः मंत्र का जप करना चाहिए.