Chandra Gochar : 18 सितंबर तक बन रहे तीन योग चंद्र गोचर के कारण आपकी राशि पर क्या पड़ेगा प्रभाव.

Chandra Gochar September 2022: वैदिक ज्योतिष में चंद्रमा सबसे तेज गति से चलने वाला ग्रह है। चंद्रमा ढाई दिन में राशि परिवर्तन करता है। इस लिए यह ग्रह हर राशि पर अपने गोचर के अनुसार प्रभावित करता है। हालांकि यह प्रभाव अल्पकालिक होता है। कभी-कभी दो ग्रह एक ही राशि में आकर योग बनाते हैं। कुछ योग शुभ और कुछ अशुभ होते हैं। ज्योतिष शास्त्र में चंद्रमा को मन का स्वामी माना गया है। चंद्र के प्रभाव से जातक का मन बेचैन या स्थिर हो जाता है। सभी कार्यों में कठिनाइयां आती हैं। चंद्र राशि परिवर्तन सभी राशियों को प्रभावित करता है।

चंद्रमा का मीन राशि में प्रवेश

11 सितंबर 2022 को दोपहर 02 बजकर 23 मिनट पर चंद्रमा मीन राशि में प्रवेश करेगा। इससे मीन राशि में गजकेसरी योग बनेगा। बृहस्पति एक साल के लिए मीन राशि में आ चुका है। मीन राशि का स्वामी बृहस्पति है। गजकेसरी योग बहुत ही शुभ माना जाता है। कुंडली में बनने वाले सभी धन योगों में सबसे शक्तिशाली योग है। धन का स्वामी बृहस्पति और मन का स्वामी चंद्र इस योग का निर्माण करता है। यह योग कुंभ राशि के दूसरे भाव, मिथुन राशि के 10वें और वृषभ राशि के 11वें भाव में बन रहा है। इन राशियों को अच्छा लाभ होगा।

ग्रहण योग ने इन राशियों को लाभ

चंद्रमा 13 सितंबर 2022 को सुबह 06 बजकर 35 मिनट पर मीन से मेष राशि में प्रवेश करेगा। इससे मेष में ग्रहण योग बनेगा। राहु डेढ़ साल से मेष राशि में स्थित है। जब चंद्र राहु से जुड़ता है तो ग्रहण योग बनता है, जो अशुभ माना जाता है। यह जिन जातकों पर हावी होता है। उनकी मानसिक स्थिति को बुरी तरह से प्रभावित करता है। ज्योतिष शास्त्र के अनुसार राहु और चंद्रमा के संबंध से चंद्र दूषित होता है। इसका प्रभाव मीन, कर्क और मिथुन राशि वालों पर पड़ेगा।

यह भी पढ़े :  Rashifal Today : 18 September : आज का राशिफल : मिथुन राशि में चंद्रमा का संचार, कर्क समेत इनको मिलेगा फायदा.

वृषभ राशि में बनेगा लक्ष्मी योग

15 से 18 सितंबर के बीच चंद्र के वृषभ राशि में प्रवेश करने लक्ष्मी योग बन रहा है। गोचर जन्म कुंडली में चंद्रमा और मंगल की युति से लक्ष्मी योग बनता है। इस योग को धन योग कहते हैं। इससे मेष, सिंह और कर्क राशियों को जबरदस्त लाभ होगा।