CHANAKYA NITI : वरना चारों तरफ से होगा सिर्फ नुकसान अगर हर किसी को अपनी ये बातें बताएंगे तो.

चाणक्य ने अपनी नीतियों का द्वारा जरूरी और कड़े संदेश दिए हैं. नीति शास्त्र में चाणक्य ने जीवन के हर पहलू के बारे में बताया है. चाणक्य नीति में चाणक्य ने धर्म-अधर्म, कर्म, पाप-पुण्य आदि के बारे में बताया है. चाणक्य की इन नीतियों के जरिए कोई भी व्यक्ति अपने जीवन के बेहतरीन बना सकता है. चाणक्य नीति में आचार्य चाणक्य कहते हैं कि कुछ जरूरी बातों से हर इंसान को बचकर रहना चाहिए.

हर किसी को नहीं बतानी चाहिए ये बातें : 

-आचार्य चाणक्य के मुताबिक धन बहुत बड़ी ताकत है. ऐसे में अगर आर्थिक रूप से नुकसान हुआ है तो इस संबंध में किसी अन्य को नहीं बताना चाहिए. ऐसा इसलिए, क्योंकि कोई व्यक्ति आपकी मदद से कतरा सकता है. इसके अलावा ये भी संभव हो सकता है कि सामने वाला औरों के सामने आपका उपहास करें.

चाणक्य कहते हैं कि अपने दुखों का जिक्र औरों से नहीं करना चाहिए. अगर आप अपने दुखों की चर्चा किसी से की तो वह आपके सुखों से खुश नहीं होगा, बल्कि वह आपके दुखों से खुश होगा. इसके अलावा सामने वाला पीठ पीछे आपकी हंसी उड़ाएंगे. ऐसे में अपने दुख को अपने तक ही सीमित रखना चाहिए.

-चाणक्य नीति के मुताबिक अगर आपकी पत्नी की चाल-चलन खराब है और इस बात की जानकारी आपको है तो उसकी दुष्चरित्रता का ढींढोरा ना पीटें, बल्कि इसका समाधान आपस में ही निकालें. दूसरों के समक्ष इस बात की चर्चा करने पर लोगों के बीच शर्मिंदा होना पड़ सकता है.

-चाणक्य नीति कहती है कि अगर आपका कहीं भी अपमान हुआ है तो इसके विषय में दूसरों को ना बताएं. अगर आप इस बात को दूसरों से साझा करेंगे तो आपको खुद अपमान झेलना पड़ेगा. इतना ही नही, समाज में भी प्रतिष्ठा का अभाव हो जाएगा.