Chaitra Navratri 2022 : इन कार्यों की होती है मनाही चैत्र नवरात्रि में माता रानी हो जाती हैं नाराज.

Chaitra Navratri 2022: चैत्र नवरात्रि में मां दुर्गा के विभिन्न स्वरुपों की पूजा विधिपूर्वक करते हैं. इस दौरान व्रत रखते हैं, हवन करते हैं और कन्या पूजन भी करते हैं. इस साल चैत्र नवरात्रि 02 अप्रैल से 11 अप्रैल (Chaitra Navratri 2022 Start And End Date) तक है. जो लोग चैत्र नवरात्रि का व्रत रखते हैं, जिनके घरों में कलश स्थापना होती है, उन लोगों को के लिए कुछ नियम होते हैं, जिनका पालन करना होता है. इन नियमों के तरह ही कुछ ऐसे कार्य होते हैं, जिसको करने की मनाही होती है. उन वर्जित कार्यों को करने से माता रानी नाराज हो सकती हैं, इसलिए उन कार्यों को भूलवश भी नहीं करना चाहिए.

उनको करने से दोष लगता है और पाप के भागी बनते हैं. आइए जानते हैं चैत्र नवरात्रि में कौन-कौन से कार्य नहीं (Chaitra Navratri 2022 Donts) करने चाहिए.

चैत्र नवरात्रि में क्या न करें :-

1. चैत्र नवरात्रि के समय में दिन में सोना वर्जित है. सोने से आलस्य एवं नकारात्मकता आती है.

2. चैत्र नवरात्रि में तामसिक चीजों से दूर रहना चाहिए. इस दौरान मांस, मदिरा, तंबाकू, सिगरेट आदि का सेवन नहीं करना चाहिए.

3. चैत्र नवरात्रि के दौरान घर में लहसुन और प्याज वाला भोजन नहीं करना चाहिए. इन दोनों को ही तामसिक श्रेणी में रखा जाता है.

4. इस दौरान बाल, दाढ़ी और नाखून नहीं काटना चाहिए. चैत्र नवरात्रि व्रत से पहले या फिर दशमी के बाद ये काम कर सकते हैं.

5. नवरात्रि के समय में चमड़े से बनी वस्तुओं का उपयोग न करें. चमड़े के बेल्ट, पर्स, जूते, चप्पल आदि का उपयोग बंद कर दें.

यह भी पढ़े :  RASHIFAL TODAY : 7 जनवरी 2021 का राशिफल: इन राशियों के जातकों पर होगी धन की वर्षा, जानिए शुभ रंग और उपाय.

6. नवरात्रि में मां दुर्गा के लिए अखंड ज्योति जलाई जाती है. पूरी नवरात्रि घर में हर समय किसी न किसी सदस्य का होना जरूरी है. घर को खाली नहीं छोड़ते हैं.

7. नवरात्रि के दौरान काम वासना, क्रोध, लोभ, मोह आदि से दूर ही रहें. यदि ऐसा नहीं करते हैं, तो व्रत का फल प्राप्त नहीं होगा. दोष भी लगेगा.

8. कन्या को मां दुर्गा का रुप माना जाता है. आप कोई ऐसा कार्य या व्यवहार न करें, जिससे कोई कन्या दुखी हो. उसका दिल न दुखाएं.

9. नवरात्रि के समय में गृह क्लेश न करें. घर में शांति बना कर रखें. वाद विवाद न करें. धैर्य से काम लें.