Bhadrapad Shivratri 2022 : जानें योग और महत्व आज है भाद्रपद शिवरात्रि इस मुहूर्त में करें शिव पूजा.

भाद्रपद की मासिक शिवरात्रि (Bhadrapad Shivratri) आज 25 अगस्त दिन गुरुवार को है. भाद्रपद मास के कृष्ण पक्ष की चतुर्दशी तिथि आज सुबह 10 बजकर 37 मिनट पर लग जा रही है और कल 26 अगस्त को यह दोपहर 12 बजकर 23 मिनट तक ही मान्य रहेगी. शिवरात्रि की पूजा में रात्रि का मुहूर्त महत्वपूर्ण होता है, इसलिए चतर्दशी तिथि में पूजा का शुभ मुहूर्त आज रात प्राप्त हो रहा है, इसलिए आज भाद्रपद शिवरात्रि मनाई जा रही है.

मासिक ​शिवरात्रि पूजा मुहूर्त
शिवरात्रि के दिन तो सुबह से ही शिव मंदिरों में भक्त अपने प्रभु शिव के दर्शन के लिए आने लगते हैं. शिव पूजा आप दिन में कभी कर सकते हैं, लेकिन रात्रि की पूजा का शुभ समय रात 12 बजकर 01 मिनट से देर रात 12 बजकर 45 मिनट तक है.

सर्वार्थ सिद्धि योग में शिवरात्रि
आज की मासिक शिवरात्रि सर्वार्थ सिद्ध योग में है. इस योग में किए गए कार्य सफल सिद्ध होते हैं. इस दिन सर्वार्थ सिद्धि योग प्रात: 05 बजकर 55 मिनट पर प्रारंभ हो रहा है और यह शाम को 04 बजकर 16 मिनट तक है. यदि आपकी कोई विशेष मनोकामना है तो आप सर्वार्थ सिद्धि योग में उसकी सफलता के लिए शिव पूजन कर सकते हैं.

सर्वार्थ सिद्धि योग के अलावा इस समय में ही गुरु पुष्य योग और अमृत सिद्धि योग भी बना हुआ है. ये दोनों भी योग शुभ होते हैं. आप इस योग में कोई भी शुभ कार्य कर सकते हैं. हालांकि अभी चातुर्मास चल रहा है, इसलिए गृह प्रवेश, विवाह, मुंडन जैसे मांगलिक कार्य नहीं हो सकते हैं.

यह भी पढ़े :  Guru Purnima 2022 : राशि अनुसार करें दान होंगे ये लाभ गुरु पूर्णिमा पर.

शिवरात्रि पूजा विधि
आज प्रात: दैनिक कार्यों से निवृत होकर सबसे पहले सूर्य देव को जल अर्पित करें. उसके बाद मासिक शिवरात्रि और शिव पूजा का संकल्प लें. फिर शुभ समय में किसी शिव मंदिर या घर पर शिवलिंग का गंगाजल और गाय के दूध से अभिषेक करें.

अब शिवलिंग पर चंदन, अक्षत्, बेलपत्र, शहद, फूल, फल, भांग, धतूरा, शमी के पत्ते, मिठाई, शक्कर आदि अर्पित करें. इस दौरान शिव पंचाक्षर मंत्र ओम नम: शिवाय का जाप करते रहें. धूप और दीप से सुशोभित करके शिवलिंग को माला पहनाएं.