21.1 C
Delhi
Tuesday, October 19, 2021

Pitru Paksha 2021: पिंडदान-तर्पण करने के लिए सबसे अच्‍छी हैं ये 3 जगहें, पूर्वजों को सीधे मिलता है मोक्ष

Must read

पितरों की आत्मा की शांति के लिए हर साल पितृ पक्ष (Pitru Paksha) में लोग श्राद्ध और पिंडदान (Shradh-Pind Daan) करते हैं. इस काम के लिए 3 जगहों को सबसे उत्तम माना गया है.

भाद्रपद महीने की पूर्णिमा से पितृ पक्ष (Pitru Paksha 2021) शुरू होता है जो 15 दिन बाद पड़ने वाली आश्विन महीने की अमावस्या तक चलता है. इस साल पितृ पक्ष 20 सितंबर से शुरू होकर 6 अक्टूबर 2021 तक रहेगा. पितृ पक्ष में पूर्वजों (Ancestors) की आत्‍मा की शांति के लिए श्राद्ध और पिंडदान (Shradh-Pind Daan) किया जाता है. ताकि पूर्वजों के आशीर्वाद से वंश फल-फूले, तरक्‍की मिले.

श्राद्ध और पिंडदान के लिए हमारे देश में 3 जगहों को उत्‍तम बताया गया है. कहते हैं इन पवित्र जगहों पर तर्पण, पिंडदान करने से पूर्वजों को मोक्ष मिलता है. हर साल देश-विदेश से लोग यहां अपनों की आत्‍मा की शांति के लिए पितृ पक्ष में तर्पण-पिंडदान करने के लिए आते हैं.

यह भी पढ़े :  Pitru Paksha 2021: क्या सच में कौओं के रूप में भोजन करने आते हैं हमारे पितृ? ऐसी है मान्यता

इन जगहों पर पिंडदान करना सर्वोत्तम :

गया (बिहार): मान्‍यता है कि बिहार राज्‍य के गया (Gaya) जिले में फल्गु नदी के तट पर पिंडदान करने से पूर्वजों की आत्‍मा को शांति मिलती है. इसके अलावा परिजन की मौत के तुरंत बाद पिंडदान करने के लिए भी गया जाते हैं, ताकि मृत आत्‍मा मृत्‍यलोक में न भटके और सीधे बैकुंठ में जाए.

ब्रह्मकपाल (उत्तराखंड): अलकनंदा नदी के किनारे बसे ब्रह्मकपाल (Brahmakapal) को श्राद्ध करने के लिए सबसे पवित्र माना गया है. यह जगह बद्रीनाथ के करीब ही है. कहते हैं कि यहां पर श्राद्ध कर्म, पिंडदान और तर्पण करने से पितृ तृप्‍त होते हैं और उन्‍हें स्‍वर्ग मिलता है. पौराणिक कथाओं के मुताबिक पांडवों ने भी अपने परिजनों की आत्मा की शांति के लिए यहीं पिंडदान और श्राद्ध किया था.

यह भी पढ़े :  PITRU PAKSHA पितृ पक्ष : श्राद्ध पक्ष में सर्वपितृ अमावस्या की ये 10 बातें जरूर जान लें

नारायणी शिला (हरिद्वार): कहते हैं कि हरिद्वार में नारायणी शिला (Narayani Shila) के पास पिंडदान करने से पूर्वजों को मोक्ष मिलता है. मान्‍यता है कि हरिद्वार में भगवान विष्णु और महादेव दोनों ही निवास करते हैं.

- Advertisement -spot_img

More articles

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here
यह भी पढ़े :  Pitru Paksha 2021: बड़ा-छोटा बेटा ही नहीं ये परिजन भी कर सकते हैं तर्पण-श्राद्ध, जानिए सारे नियम

- Advertisement -spot_img

Latest article